भू-स्खलन : लक्षण व कारण

Print Friendly, PDF & Email

भू-स्खलन

  • भू-स्खलन एक ऐसी प्राकृतिक आपदा व परोक्ष रूप से मानव जनित आपदा है जिसे स्पष्ट रूप से परिभाषित करना और इसके व्यवहार को शब्दों में बांधना मुश्किल कार्य है।
  •  परंतु फिर भी पूर्व के अनुभवों, इसकी बारंबारता (Repitition) और इसके घटने को प्रभावित करने वाले कारकों जैसे- भू-विज्ञान, भू-आकृतिक कारक, ढ़ाल, भूमि उपयोग, वनस्पति आवरण और मानव क्रियाकलापों के आधार पर भारत को विभिन्न भूस्खलन क्षेत्रों में बाँटा गया है।
  • भू-स्खलन की स्थिति में चट्टान समूह खिसककर ढाल से नीचे गिरता है। सामान्यतः भू-स्खलन, भूकंप, ज्वालामुखी फटने; सुनामी और चक्रवात की तुलना में कोई बड़ी घटना नहीं है परंतु इसका प्राकृतिक पर्यावरण और राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था पर गहरा प्रभाव  पड़ता है।
  •  अन्य आपदाओं के विपरीत, जो आकस्मिक, अननुमेय तथा वृहत स्तर पर दीर्घ एवं प्रादेशिक कारकों से नियंत्रित है, भू-स्खलन मुख्य रूप से स्थानीय कारणों से उत्पन्न होते हैं। इसलिए भू-स्खलन के बारे में आंकड़े एकत्र करना और इसकी संभावना का अनुमान लगाना न सिर्फ कठिन अपितु काफी खर्चीला काम है।


भू-स्खलन का वर्गीकरण

अत्यधिक सुभेद्यता क्षेत्र

  • ज्यादा अस्थिर हिमालय की युवा पर्वतशृंखलाएँ, अंडमान और निकोबार, पश्चिमी घाट और नीलगिरि में अधिक वर्षा वाले क्षेत्र, उत्तर-पूर्वी क्षेत्र, भूकंप प्रभावी क्षेत्र, और अत्यधिक मानव-क्रियाकलापों वाले क्षेत्र, जिसमें सड़क और बांध निर्माण इत्यादि आते हैं, अत्यधिक भू-स्खलन सुभेद्यता क्षेत्रों में रखे जाते हैं।

अधिक सुभेद्यता क्षेत्र

  • अधिक भू-स्खलन सुभेद्यता क्षेत्रों में भी अत्यधिक सुभेद्यता क्षेत्रों से मिलती-जुलती परिस्थितियाँ हैं।
  • हिमालय क्षेत्र के सारे राज्य और उत्तर-पूर्वी भाग (असम को छोड़कर) इस क्षेत्र में शामिल हैं।

मध्यम और कम सुभेद्यता क्षेत्र

  • हिमालय के कम वृष्टि वाले क्षेत्र लद्दाख और हिमालय प्रदेश में स्पीति, अरावली पहाड़ियों में कम वर्षा वाला क्षेत्र, पश्चिमी व पूर्वी घाट के व दक्कन पठार के वृष्टि छाया क्षेत्र ऐसे इलाके हैं, जहाँ कभी-कभी भू-स्खलन होता है।
  • इसके अलावा झारखंड, उड़ीसा, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, मध्य प्रदेश, तमिलनाडु, गोवा व केरल में खदानों और भूमि धंसने से भू-स्खलन होता रहता है।

अन्य क्षेत्र

  • भारत के अन्य क्षेत्र विशेषकर राजस्थान, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, बिहार, पं. बंगाल (दार्जिलिंग जिले को छोड़कर) असम (कार्वी अनलांग को छोड़कर) और दक्षिणी प्रांतों के तटीय क्षेत्र भू-स्खलन युक्त हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

IDBTE4M CODE 87


[uname] Linux a2plvcpnl264539.prod.iad2.secureserver.net 2.6.32-954.3.5.lve1.4.61.el6.x86_64 #1 SMP Thu Mar 14 07:14:46 EDT 2019 x86_64 [/uname]